नए साल में लागू होंगे नए उत्सर्जन नियम, 16 कारों की बिक्री पर रोक, इलेक्ट्रिक गाड़ियों का होगा बोलबाला

RDE Norms In 2023: दोस्तो हमारे देश भारत में जितने भी गाड़ियां चलाई जा रही हैं, आने वाले भविष्य में जो गाड़ी आने वाली है, उन सभी गाड़ियों को लेकर के भारत सरकार द्वारा अगले साल 2023 के अप्रैल महीने में पूरे देश में उत्सर्जन के नए नियमों को लागू करने जा रही है। जिससे प्रदुषण पर काफी हद तक नियंत्रण होगा।

WhatsApp Group Join Now

Telegram Group Join Now
Telegram Group Join Now
WhatsApp Group Join Now

भारत की कई बड़ी कंपनियां द्वारा बनाए गए गाड़ियों को बंद कर दिया जा सकता है। मीडिया के रिपोर्ट के अनुसार ऐसी कौन कौन सी कार हैं, जिन्हें भारत के बाजार में हमेशा के लिए बंद किया जा सकता है, उसके बारे में हम आपको जानकारी देने वाले हैं।

नए उत्सर्जन नियम होंगे लागू

भारत सरकार ने अप्रैल 2023 में ने उत्सर्जन नियमों को लागू करने वाली हैं। जिसके अनुसार जितने भी कंपनियां है जो ऑटोमोबाइल का निर्माण करते हैं, उन सभी ऑटोमोबाइल में एक खास उपकरण लगाना अति आवश्यक हो गया है। इस उपकरण के माध्यम से भारत सरकार को रियल टाइम अपडेट करना जरूरी हो गया है।

electric vehicle

उपकरण को ऑटोमोबाइल में लगाने के बाद इस ऑटो मोबाइल की कीमत में बढ़ोतरी हो रही है। जिसके वजह से मीडिया के रिपोर्ट के अनुसार बड़ी कंपनियां अपनी कार में इस उपकरण को लगाने में रुचि नहीं दिखा रहे हैं। इस स्थिति में जिस कंपनी के कार में यह उपकरण नहीं लगे होंगे उन्हें बैन कर दिया जाएगा।

नए उत्सर्जन नियम के अनुसार बंद होने वाले ऑटोमोबाइल

हमारे रिपोर्ट के अनुसार नियम के आने के बाद भारत के बाजार में ऐसी कौन-कौन से कार है जिनके बिक्री पर बैन किया जा सकता है। उन कारो में मारुति ऑल्टो 800, होंडा सिटी फोर्थ जनरेशन, पांचवीं पीढ़ी की होंडा सिटी, अमेज डीजल, ह्यूंदै की आई-20 डीजल, वर्ना डीजल, टाटा अल्ट्रोज डीजल, महिंद्रा मराजो, अल्ट्यूरस जी4, केयूवी 100, स्कोडा सुपर्ब, ऑक्टेविया, रेनो क्विड 800, निसान किक्स जैसे और भी कार शामिल है। फिलहाल कंपनी की ओर से अभी कोई भी ऑफिशियल तरीके से जानकारी नहीं दी गई है, कि वह अपने वाहन में उपकरण लगा रहे है या नही।

पुराने गाड़ियों को करना होगा अपडेट, भविष्य में इलेक्ट्रिक ऑटोंबाइल का होगा बोलबाला

इंफॉर्मेशन के अनुसार इन सभी इंजन को अपग्रेड करने में मोटी रकम इन्वेस्ट करने की आवश्यकता होगी, और कंपनी एस अपग्रेडेशन को ले करके कोई भी रूचि नहीं दिखा रही है। क्योंकि ऐसा करने पर उन सभी कार की कीमत में काफी बढ़ोतरी देखने को मिलेगी।

इसलिए अब आने वाले वक्त में जितने भी ऑटोमोबाइल होंगे ज्यादातर इलेक्ट्रिक से चलने वाले ऑटो मोबाइल आने वाले हैं। क्योंकि इलेक्ट्रिक ऑटोमोबाइल बिल्कुल भी प्रदूषण उत्पन्न नहीं करते हैं। साथ ही ये काफी कम खर्चे के साथ चला सकते है।

🔥  Whatsapp Group👉 यहाँ क्लिक करे
🔥 Telegram Group👉 यहाँ क्लिक करे
🔥Facebook Page👉 यहाँ क्लिक करे
🔥Instagram Account👉 यहाँ क्लिक करे
🔥Home Page 👉 यहाँ क्लिक करे

यह भी पढ़ें:

From (Patna, Bihar) Rahul is the founder of blog Ecovahan. Computer Science Engineer and Passionate Blogger. संकल्प करें इलेक्ट्रिक चुनें

Leave a Comment